VASHMALLE LYRICS – Thugs of Hindostan | Aamir Khan, Amitabh Bachchan


Vashmalle Lyrics from Thugs Of Hindostan:

Singers: Sukhwinder Singh, Vishal Dadlani
Music: Ajay,Atul
Lyrics: Amitabh Bhattacharya
Director: Vijay Krishna Acharya

वश्माल्ले लिरिक्स - Vashmalle Lyrics

अरे रा रा…
रात पौने बारह पे डाल के शरारा
बॅग्डॅड से मंगाई रात है

हाल से मलंगी है चाल से फिरंगी
शैतान की लुगाई रात है

इसकी अदा में कोहिनूर का जमाल है
शौक़ीन है मिजाज़ से मियाँ कमाल है
अंगूर के निचोड़ में नहा के आई है
मौक़े का फायेदा उठा ले…

अरे रा रा…
हुड-डांग मचे शोर मचे हाल
आय अरे रा रा…
जब तक ना ढले रात जशन करले
हन थिरक थिरक थिरक थिरक झूम ले
वश्माल्ले, वश्माल्ले
वश्माल्ले यारा वश्माल्ले (जे2)

क़ाज़ी बोले पीना पाप है
लेकिन अपनी तबीयत मदिरा-छाप है
ना बंधु ना सखा, अपना कौन सगा
इक साक़ि ही माई बाप है

पी के फनने ख़ान बन जाएँगे
गाना आता ना हो फिर भी गाएँगे
सुर बहाल तो क्या
छ्छूते ताल तो क्या
इतनी भूल चूक माफ़ है

सूरज को डूबने से पहले ही सलाम है
होती पीयक्कादों की दोपहर भी शाम है
गुस्ताख जोश ने ज़रा तंगड़ी जो मार दी
देखो ज़मीन पे होश गिर पड़ा धदम है

अरे रा रा…
हुड-डांग मचे शोर मचे हाल
आय अरे रा रा…
जब तक ना ढले रात जशन करले
हन थिरक थिरक थिरक थिरक झूम ले
वश्माल्ले, वश्माल्ले
वश्माल्ले यारा वश्माल्ले (जे2)