Vahem | Naezy


VAHEM LYRICS :

Singer : Naezy
Lyricist : Naezy
Music : BYG BYRD
Director : Naezy
Cast :Major C, Simran Shah, Vibha Mehta, Aetashaa Sansgiri
Director Of Photography : Dezwyn Tinwala
Genre : Hip-Hop (Rap)
Mix And Master : Hanish Taneja

वाहें लिरिक्स  - VAHEM LYRICS

सारे लगे जाने क्यूँ पीछे
मेरा यह ख़याल मुझे खींचे
सारे यह सवाल मुझे पूछे
मिलता है क्या संगीत से?

मेरे दिल को सुकून
मेरे रूह को चैन
मैं जब ढलता इसमें
मेरे भरते नैन

मेरी सासें थमती हैं
यह धड़कन एंड
हूँ मैं नकली व्यक्ति
है यह तेरा वहाँ

कब तक रहा वाहें में
अब तो जाग जा!
कब तक सर्द रहिंगा
जलती आग क्या?

मेरे में तो जलती
अंदर है मों मेरी बत्ती पिघलती
भेजे की नि चलती
मस्का है दिल बोले फीलिंग्स फिसलती
ट्रिप थोड़ी भालती
किसकी है घालती

नाराज़गी कब तक ये
अब तुम बता दो
चाह कर भी कुश ना रहूं
क्यूँ मैं सज़ा लून

आसान नही क्यूँ है यह
बता वजह तू
उम्मीद में बढ़ रहे
मैं जागूं भागुण

कल की जो बीती बात है सभी की
दिल पे लाई थी
बातों को वो भुला दिया
कड़वी कसैली गंदी घिनौनी
बेहाध फ़िज़ूल,
सारी यादों को मैं भुला दिया
दुश्मनों की सुला दिया
चलती का नाम लिया
गाड़ी नही ली
भलते का काम किया
भटकी नही मेरी सब कुछ संभाल लिया
कुच्छ दिन की भागदौड़
फिर कुछ दिन आराम किया

कब तक रहा वाहें में
अब तो जाग जा!
कब तक सर्द रहिंगा
जलती आग क्या?

मेरे में तो जलती
अंदर है मों मेरी बत्ती पिघलती
भेजे की नि चलती
मस्का है दिल बोले फीलिंग्स फिसलती
ट्रिप थोड़ी भालती
किसकी है घालती

नाराज़गी कब तक ये
अब तुम बता दो
चाह कर भी कुश ना रहूं
क्यूँ मैं सज़ा लून

आसान नही क्यूँ है यह
बता वजह तू
उम्मीद में बढ़ रहे
मैं जागूं भागुण

बराबर, बराबर
सारी बातें ठीक हैं माना
बराबर, बराबर
ज़िंदगी ना मिलेगी दोबारा!
बराबर, बराबर
मेरी जान तू है इक सितारा
बराबर, बराबर
चल मेरे संग, तेरे संग ज़माना

मेरे में तो जलती
अंदर है मों मेरी बत्ती पिघलती
भेजे की नि चलती
मस्का है दिल बोले फीलिंग्स फिसलती
ट्रिप थोड़ी भालती
किसकी है घालती

नाराज़गी कब तक ये
अब तुम बता दो
चाह कर भी कुश ना रहूं
क्यूँ मैं सज़ा लून

आसान नही क्यूँ है यह
बता वजह तू
उम्मीद में बढ़ रहे
मैं जागूं भागुण

नाराज़गी कब तक ये
अब तुम बता दो
चाह कर भी कुश ना रहूं
क्यूँ मैं सज़ा लून
आसान नही क्यूँ है यह
बता वजह तू
उम्मीद में बढ़ रहे
मैं जागूं भागुण

मेरा भी तो फीलिंग है
मैने भी संभाला यह
ज़माने कभी ना माना
मुझे बोला मैं दीवाना
हर जगह से ठोकर मिले
यह कर कभी वो कर

बोले दो पल में तुम राजा
फिर दो पल में तुम जोकर बने
बार बार रोके मुझे, टोक मुझे
मौके कितने छ्छूते मेरे
सपने कितने टूटे मेरे

बार बार लोग मुझे बोलने लगे
हार मान चूर चूर
ख्वाब मेरे रॅप पे
जाके बंद बातें चार